February 21, 2019 क्यों धार्मिक कार्य में लहसुन-प्याज़ का उपयोग नही होता ???

क्यों धार्मिक कार्य में लहसुन-प्याज़ का उपयोग नही होता ???

क्यू नही खाते ब्राह्मण प्याज और लहसुन, क्या बस यही कारण है की इन्हे खाने से मुख से दुर्गंध आती है या कुछ और !!!!!………..

त्रेतायुग मे समुद्रा मंथन की कथा से तो सभी अवगत हैं पर आज जो लोग प्याज और लहसुन से परहेज करते है उसका रहस्या भी इसी कथा से जुड़ा हुआ है.

एक मान्यता के अनुसार जब भगवान विष्णु ने मोहिनी अवतार लेकर सभी देवताओं को अमृत कलश से अमृतपान कराना शुरू किया तब छुप्कर राहु-केतु नाम का राक्षःस देवताओं के मध्य आकर बैठ गया और ग़लती से अमृत की कुछ बूंदे उसने भी ग्रहण कर ली , परंतु भगवान विष्णु ने तुरंत ही अपने सुदर्शन चक्र से उसका सर धड़ से अलग कर दिया.

सर और धड़ अलग होने के बाद जो रक्त की बूंदे सर से गिरी उनसे प्याज और जो धड़ से गिर उनसे लहसुन बना. यही कारण है की प्याज और लहसुन खाने के बाद मुख से दुर्गंध आती है और राक्षसों के रक्त से पैदा होने के कारण ब्राह्मण प्याज और लहसुन से परहेज रखते हैं और उनका मानना है कि प्याज औऱ लहसुन में राक्षसों का वास है.

 

ये तो था प्याज और लहसुन ना खाने का धार्मिक कारण पर वैज्ञानिक कारण भी जान लेते हैं.:-

  • खाद्य पदार्थों को तीन श्रेणियों में बांटा गया है – सात्विक, राजसिक और तामसिक

  • सात्विक: शांति, संयम, पवित्रता और मन की शांति जैसे गुण

  • राजसिक: जुनून और खुशी जैसे गुण

  • तामसिक: क्रोध, जुनून, अहंकार और विनाश जैसे गुण

 

वेद शास्त्रों के अनुसार लहसुन और प्याज़ जैसी सब्जियां प्रकृति प्रदत्त भावनाओं में सबसे निचले दर्जे की भावनाओं जैसे जुनून, उत्तजेना और अज्ञानता को बढ़ावा देती हैं, जिस कारण अध्यात्म के मार्ग पर चलने में बाधा उत्पन्न होती हैं और व्यक्ति की चेतना प्रभावित होती है. इस कारण इसका सेवन नहीं करना चाहिए……………..

Treatment of Kidney Disease With the Help of Natural Remedies (प्राकृतिक उपायों की मदद से करें किडनी रोग का इलाज)

किडनी शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। किडनी रक्त में मौजूद पानी और व्यर्थ पदार्थो को अलग करने का काम करता है।  इसके

Read More »

क्यों धार्मिक कार्य में लहसुन-प्याज़ का उपयोग नही होता ???

क्यू नही खाते ब्राह्मण प्याज और लहसुन, क्या बस यही कारण है की इन्हे खाने से मुख से दुर्गंध आती है या कुछ और !!!!!………..

Read More »

These work should never be done after eating food(खाने के बाद कभी नहीं करने चाहिए ये काम)

दिनचर्या व खानपान से शरीर में कई तरह की बीमारियां पैदा कर सकता है। इसीलिए आयुर्वेद में मान्यता है कि नियमित दिनचर्या से आयु लंबी

Read More »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *